रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट क्या है? जानिए कब पड़ती है इसकी जरुरत

author.webp
डॉ पाखी शर्मा, एमबीबीएसजनरल फिजिशियन, 6+ वर्ष के अनुभव के साथ
Published On : 8-Nov-2022Read Time : 5 minutes
share icon
random blood sugar test in hindi .jpg

रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट के बारे में हर किसी को जानकारी होनी चाहिए। रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट या आरबीएस टेस्ट डायबिटिक, प्री-डायबिटिक और नॉन-डायबिटिक सभी करा सकते हैं। इससे आपको अपना ब्लड शुगर लेवल मॉनिटर करने में मदद मिल सकती है। 

 

इसके द्वारा आप ब्लड शुगर लेवल ट्रैक कर इसके रिस्क और कॉम्प्लीकेशन्स से बच सकते हैं। तो चलिए जानते हैं आरबीएस टेस्ट करने का तरीका, रैंडम ब्लड शुगर लेवल और इससे जुड़ी सभी विशेष जानकारियां।

 

विषय सूची :

  • रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट या आरबीएस टेस्ट क्या होता है? 
  • डायबिटिक के लिए रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट कब और क्यों जरूरी है? 
  • रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट करने का तरीका 
  • जानिए रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट का परिणाम 
  • रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट को प्रभावित करने वाले कारक 
  • डायबिटीज डाइग्नोसिस के लिए टेस्ट 
  • सारांश पढ़ें 
  • अक्सर पूछे जाने वाले सवाल 

रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट या आरबीएस टेस्ट क्या होता है?

आरबीएस टेस्ट का फुल फॉर्म, रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट होता है। यह आपके ब्लड में मौजूद ग्लूकोज या शुगर की मात्रा को मापने की एक विधि है। यह टेस्ट दिन के किसी भी समय किया जा सकता है और डायबिटीज और प्री-डायबिटीज के निदान के लिए इसे कराया जाता है। इस टेस्ट को आप घर में या लैब में जाकर करा सकते हैं। 

 

अगर रैंडम ब्लड शुगर (आरबीएस) टेस्ट की वैल्यू थोड़ी बढ़ी हुई आती है, तो इसका मतलब आपका डायबिटीज बॉर्डरलाइन पर है या आप प्री-डायबिटीज कंडीशन में हैं। वहीं, डायबेटिक्स में अगर ब्लड शुगर लेवल काफी कम या बढ़ा हुआ आए, तो उन्हें इस बारे में डॉक्टर से सलाह लेने की आवश्यकता है।

 

इससे पहले कि आप लेख में आगे बढ़ें, घर में आराम से बैठकर हमारा Phable ऐप डाउनलोड करें, ताकि आपको अपने डायबिटीज को मैनेज करने में मदद मिल सके।

डायबिटिक के लिए रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट कब और क्यों जरूरी है?

यदि आपको डायबिटीज के लक्षण दिखाई देते हैं, तो रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट कराने की जरुरत पड़ सकती है। लक्षणों को देखते हुए आपके डॉक्टर भी ये टेस्ट कराने की सलाह दे सकते हैं। डायबिटीज के लक्षणों की जानकारी यहां दी गई है। 

  • बार-बार पेशाब जाना 
  • ज्यादा प्यास लगना 
  • पर्याप्त खाने के बाद भी भूख लगना 
  • बिना कारण वजन घटना 
  • अत्यधिक थकान होना 
  • धुंधला दिखाई देना 
  • चोट और घाव का धीरे-धीरे ठीक होना 

ध्यान दें:

  • डायबिटिक और नॉन डायबिटिक को डायबिटीज के लगभग समान लक्षण ही दिखाई देते हैं।
  • डायबिटिक, नॉन-डायबिटिक और प्रेग्नेंट महिलाएं सभी अपने ब्लड शुगर लेवल को मापने के लिए रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट करा सकते हैं। 
  • रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट का उपयोग डायबिटीज के ट्रीटमेंट के प्रभाव को चेक करने के लिए भी किया जाता है। 

रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट करने का तरीका

यहां हम घर और लैब दोनों ही तरीके से रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट करने के तरीके बता रहे हैं। रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट घर में करने के लिए आपके पास एक ग्लूकोमीटर होना चाहिए। यह आज कल हर मेडिकल स्टोर में मिल जाता है। आप ऑनलाइन भी इसे खरीद सकते हैं। Phable के माध्यम से भी आप इसे खरीद सकते हैं।

घर में रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट करने का तरीका 

  • अपने हाथों को अच्छे से धोकर सुखा लें (खाने और अन्य पदार्थ आपको गलत रीडिंग दे सकते हैं)।
  • अपने ग्लूकोमीटर में एक टेस्ट स्ट्रिप डालें।
  • टेस्ट किट के साथ प्रदान की गई सुई (लैंसेट) को अपनी उंगलियों के किनारे पर चुभा सकते हैं। 
  • टेस्ट स्ट्रिप के किनारे को ब्लड की बूंद से टच करके रखें।
  • मीटर कुछ सेकंड में एक बीप साउंड के साथ आपके ब्लड शुगर लेवल को स्क्रीन पर दिखा देगा।

लैब में रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट करने का तरीका 

  • रैंडम ब्लड टेस्ट के दौरान, फ़्लेबोटोमिस्ट (Phlebotomist - ब्लड सैंपल कलेक्ट करने वाले लैब एक्सपर्ट्स) आपके बांह की नस में एक सुई डालेंगे और ब्लड सैंपल कलेक्ट करेंगे। 
  • फिर आगे की एनालिसिस के लिए ब्लड सैंपल को एक शीशी या टेस्ट ट्यूब में डालकर लैब को भेज देते हैं। 
  • एक सर्टिफाइड लैब तकनीशियन (Lab Technician: LT) अत्याधुनिक तकनीक का उपयोग करके आपके ब्लड सैंपल की एनालिसिस करते हैं। 
  • ब्लड सैंपल कलेक्शन के 24 से 48 घंटे के अंदर टेस्ट की रिपोर्ट आ जाती है। 

जानिए रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट का परिणाम

  • किसी स्वस्थ व्यक्ति का या नॉन डायबिटिक व्यक्ति का अगर रैंडम ब्लड ग्लूकोज लेवल 140 mg/dl या इससे कम है तो यह सामान्य है। 
  • यदि रैंडम ब्लड ग्लूकोज लेवल 140 और 200 mg/dl के बीच हैं, तो आप प्री-डायबिटिक हो सकते हैं। 
  • यदि आपका रैंडम ब्लड ग्लूकोज 200 mg/dl या उससे अधिक है, तो आपको डायबिटीज है। 

रैंडम ब्लड ग्लूकोज टेस्ट किसी भी समय ग्लूकोज के लेवल को मापने के लिए किया जा सकता है। डाइग्नोसिस को कन्फर्म करने के लिए, फास्टिंग ग्लूकोज टेस्ट (Fasting Glucose Test) और ओरल ग्लूकोज टॉलरेंस टेस्ट (Oral Glucose Tolerance Test) की जरूरत पड़ सकती है। 

रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट को प्रभावित करने वाले कारक

निम्नलिखित कारक आपके ब्लड शुगर लेवल को प्रभावित कर सकते हैं, जिससे आपका रैंडम ब्लड शुगर लेवल बढ़ा हुआ या कम आ सकता है, जैसे:

  • तनाव 
  • टेस्ट के ठीक पहले बहुत अधिक खाने से 
  • सही समय पर खाना न खाने से 
  • दवाइयों के साइड इफ़ेक्ट 
  • किसी तरह की स्वास्थ्य समस्या 
  • पीरियड्स 
  • डिहाइड्रेशन 
  • दर्द 

निम्नलिखित कारक आपके रैंडम ब्लड शुगर लेवल को कम कर सकते हैं:

  • बहुत कम खाने से 
  • ज्यादा शराब पीने से 
  • ज्यादा फिजिकल एक्टिविटी करने से 
  • दवाइयों के साइड इफ़ेक्ट 

डायबिटीज डाइग्नोसिस के लिए टेस्ट

यदि आपका रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट के बाद ग्लूकोज लेवल नॉर्मल से अधिक या कम है तो डॉक्टर डाइग्नोसिस को कन्फर्म करने के लिए फॉलो-अप टेस्ट कराने की सलाह दे सकते हैं। ये टेस्ट हैं:

फास्टिंग ग्लूकोज टेस्ट (Fasting Glucose Test)

यह ब्लड शुगर लेवल को मापने के लिए किया जाता है। यह टेस्ट 8 घंटे फ़ास्ट रखने के बाद किया जाता है। डॉक्टर इस टेस्ट को सुबह ब्रेकफास्ट से पहले करने की सलाह दे सकते हैं।

ओरल ग्लूकोज टॉलरेंस टेस्ट (Oral Glucose Tolerance Test)

कभी -कभी डायबिटीज होने पर भी फास्टिंग या रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट नॉर्मल रिजल्ट दे सकते हैं। यदि डॉक्टर को डाउट होता है तो वे आपको OGTT टेस्ट कराने की सलाह दे सकते हैं। 

 

इस टेस्ट में आपको 8 घंटे कुछ भी खाना पीना नहीं है और उसके बाद टेस्ट कराना है। पहला ब्लड सैंपल देने के बाद, आपको ग्लूकोज़ युक्त ड्रिंक दी जाएगी। इसके बाद डॉक्टर अगले 2 घंटों में कुछ और सैम्पल्स ले सकते हैं। इसमें आपके हाथ के नस से ब्लड सैंपल लिया जाएगा। 

 

हमे उम्मीद है कि आपको इस लेख द्वारा रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी। अब आप कभी भी घर में मौजूद ग्लूकोमीटर के जरिये अपने ब्लड शुगर लेवल को मॉनिटर कर सकते हैं। साथ ही एक स्वस्थ रूटीन को अपनाकर अपने ब्लड शुगर लेवल को मैनेज कर सकते हैं।

 

सारांश पढ़ें

  • रैंडम ब्लड शुगर (RBS) टेस्ट के द्वारा आपके ब्लड में उपस्थित ग्लूकोज या शुगर की मात्रा को मापा जाता है।
  • रैंडम ब्लड ग्लूकोज टेस्ट किसी भी समय शुगर लेवल को मापने के लिए किया जा सकता है। 
  • बार-बार पेशाब आना, ज्यादा भूख या प्यास लगना, थकान, आदि डायबिटीज के लक्षण दिखाई दें तो भी आप रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट करा सकते हैं।
  • स्वस्थ व्यक्ति का या नॉन डायबिटिक व्यक्ति का रैंडम ब्लड ग्लूकोज लेवल 140 mg/dl या इससे कम होने का मतलब है कि शुगर लेवल सामान्य है। 
  • रैंडम ब्लड ग्लूकोज लेवल 140 और 200 mg/dl के बीच हो, तो आप प्री-डायबिटिक हैं। 
  • यदि आपका रैंडम ब्लड ग्लूकोज 200 mg/dl या उससे अधिक है, तो आपको डायबिटीज है।
  • ब्लड शुगर लेवल कम या ज्यादा आने पर अपने डॉक्टर से सलाह ले सकते हैं। 
  • डायबिटिक, नॉन-डायबिटिक और प्रेग्नेंट महिलाएं जैसे, सभी लोग अपने ब्लड शुगर लेवल को मापने के लिए रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट करा सकते हैं। 
  • डाइग्नोसिस को कन्फर्म करने के लिए, आपके डॉक्टर आपको फास्टिंग ग्लूकोज टेस्ट और ओरल ग्लूकोज टॉलरेंस टेस्ट (OGTT) करवाने की सलाह दे सकते हैं। 

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

संबंधित ब्लॉग्स

पूर्व मधुमेह यानी प्रीडायबिटीज के उपाय अपनाकर डायबिटीज से खुद को बचाएं

पूर्व मधुमेह यानी प्रीडायबिटीज के उपाय अपनाकर डायबिटीज से खुद को बचाएं

पूर्व मधुमेह को आसानी से मैनेज किया जा सकता है। इसके लिए सही उपायों को अपनाने की जरूरत होती है। यहां जानें प्रीडायबिटीज से जुड़ी सभी जरूरी जानकारियां।

और पढ़ें  Read more
शुगर से होने वाले रोग जो बन सकती है बड़ी मुसीबत

शुगर से होने वाले रोग जो बन सकती है बड़ी मुसीबत

शुगर से होने वाले रोग को दूर रखने के लिए सही जानकारी होना जरूरी है, जो आपको यहां मिल जाएगी। इस लेख में शुगर से होने वाली परेशानी व उसे दूर रखने के उपाय बताए गए हैं।

और पढ़ें  Read more
डायबिटीज में दर्द: इन 6 आसान तरीकों से करें शुगर में हाथ-पैर में दर्द के घरेलू उपाय

डायबिटीज में दर्द: इन 6 आसान तरीकों से करें शुगर में हाथ-पैर में दर्द के घरेलू उपाय

डायबिटीज में दर्द महसूस होने पर इसका कारण जानना चाहते हैं, तो इस लेख को जरूर पढ़ें। यहां डायबिटीज में दर्द के बारे में खास जानकारी दी गई है।

और पढ़ें  Read more