क्या पानी शुगर लेवल कंट्रोल कर सकता है? यहां है पूरी जानकारी

author.webp
डॉ पाखी शर्मा, एमबीबीएसजनरल फिजिशियन, 6+ वर्ष के अनुभव के साथ
Published On : 8-Nov-2022Read Time : 7 minutes
share icon
water for diabetes in hindi .jpg

“जल ही जीवन है” यह कहावत आपने कई बार सुनी होगी। हमारे शरीर का लगभग 50 से 60% भाग पानी से बना है। वहीं, अगर आपको डायबिटीज जैसी स्वास्थ्य समस्या है, तो आपके मन में यह सवाल जरूर आता होगा कि क्या पानी मधुमेह में मदद करता है? तो बता दें मधुमेह रोगियों के लिए पानी और भी जरूरी है। पानी कैसे मधुमेह रोगियों की मदद कर सकता है, यहाँ जानिए।

 

विषय सूची :

  • जानिए पानी का डायबिटिक्स के स्वास्थ्य पर प्रभाव 
  • मधुमेह में पानी पीने के फायदे 
  • डायबिटीज में गर्म पानी पीने के फायदे 
  • मधुमेह में प्रति दिन कितना पानी पीना है? 
  • क्या डायबिटिक के लिए पानी के अन्य विकल्प हो सकते हैं? 
  • सारांश पढ़ें 
  • अक्सर पूछे जाने वाले सवाल 

जानिए पानी का डायबिटिक्स के स्वास्थ्य पर प्रभाव

आपके लिए यह समझना काफी आसान है कि जब आप पर्याप्त पानी नहीं पीते हैं, तो आपके ब्लड स्ट्रीम में ग्लूकोज की अधिक मात्रा जमा होने लगती है। इसके कारण आपका ब्लड शुगर लेवल हाई हो सकता है। 

 

दरअसल, डायबिटीज में शरीर में इकट्ठा ग्लूकोज़ को पानी या फ्ल्यूड के जरिए शरीर से बाहर निकालने में मदद मिल सकती है। इससे पानी पीने से ब्लड शुगर लेवल संतुलित रह सकता है। 

मधुमेह में पानी पीने के फायदे

ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करे 

पानी से शुगर का इलाज नहीं किया जा सकता है, लेकिन बहुत हद तक ब्लड शुगर लेवल को मैनेज जरूर किया जा सकता है। यदि आप डायबिटिक हैं, तो स्वस्थ व्यक्ति की तुलना में आपको अधिक पानी पीने की आवश्यकता हो सकती है। 

 

यदि आपका ब्लड शुगर लेवल अधिक है, तो आपकी किडनी पेशाब के द्वारा शरीर से अतिरिक्त शुगर को बाहर निकालने का प्रयास करती है। अगर आप अधिक पानी पिएंगे तो अतिरिक्त शुगर को मूत्र के द्वारा बाहर निकलने में मदद मिल सकती है और इससे आप अपने शुगर लेवल को नियंत्रित कर सकते हैं। 

पॉलीडिपसिया (Polydipsia) में लाभकारी 

पॉलीडिप्सिया डायबिटीज के शुरूआती लक्षणों में से एक है। पॉलीडिप्सिया का मतलब होता है बहुत अधिक प्यास लगना। यदि आप पॉलीडिप्सिया का अनुभव कर रहे हैं, तो आपको हर समय प्यास लग सकती है या आपका मुँह सूख सकता है। अतः डायबिटीज में इस स्थिति से बचने के लिए अधिक मात्रा में पानी पीते रहना चाहिए। 

बार-बार पेशाब जाने की स्थिति (Polyuria)

पॉल्यूरिया भी डायबिटीज के लक्षणों में से एक है। इसमें आपको बार-बार पेशाब जाने की जरूरत महसूस हो सकती है। इससे डिहाइड्रेशन की स्थति भी उत्पन्न हो सकती है। अतः ज्यादा से ज्यादा पानी पीकर आप डायबिटीज में पॉल्यूरिया से होने वाले डिहाइड्रेशन से बचावकर सकते हैं। 

अधिक पसीना आना (Hyperhidrosis)

अधिक पसीना आने के कई कारण हो सकते हैं, लेकिन अगर आपका ब्लड शुगर लेवल अनियंत्रित है, तो भी आपको अधिक पसीना आ सकता है। इसे हाइपरहाइड्रोसिस कहते हैं। इस स्थिति में जरूरी नहीं है कि आपको टेम्प्रेचर या एक्सरसाइज की वजह से पसीना आये। 

 

ऐसे में डायबिटीज के दौरान इस स्थिति से बचाव के लिए और ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करने के लिए आपको अधिक पानी पीना चाहिए। 

डिहाइड्रेशन से बचाव 

जैसे कि हमने पहले ही जानकारी दी है कि डायबिटीज में अधिक पेशाब जाने की जरूरत महसूस हो सकती है। इसके अलावा, मधुमेह में अधिक पसीना आने की समस्या भी हो सकती है। ऐसे में शरीर से अधिक पानी निकल सकता है और आपको डिहाइड्रेशन हो सकता है। ये कई अन्य परेशानियों का कारण भी बन सकता है जैसे- सिरदर्द, थकान, चक्कर आना, यूरिन के कलर में बदलाव,आदि। 

 

तो मधुमेह में पानी पीने के फायदे में इन समस्याओं से बचाव भी शामिल है। दरअसल, जब आप पर्याप्त मात्रा में पानी पीते रहेंगे तो आप डिहाइड्रेशन की वजह से होने वाले इन समस्याओं से बच सकते हैं। 

डाइजेशन में सुधार करता है 

हाई ब्लड शुगर लेवल के कारण आपको डाइजेशन की समस्या हो सकती है, जिसमें गैस्ट्रोपेरिसिस (gastroparesis - एक विकार जिसमें पेट में खाना सामान्य समय से ज़्यादा देर के लिए रह जाता है) शामिल है। 

 

इस स्थिति से बचाव के लिए अधिक से अधिक पानी पीना आवश्यक है। यदि आप नियमित रूप से पर्याप्त पानी (प्रतिदिन 6 से 10 ग्लास पानी) पीते हैं, तो आपके डाइजेशन में सुधार हो सकता है। 

डायबिटीज में गर्म पानी पीने के फायदे

  • गर्म पानी पीने से वजन को कम किया जा सकता है। डायबिटीज में वजन को संतुलित रखना बहुत जरूरी होता है। 
  • डायबिटिक न्यूरोपैथी में नर्व डैमेज के कारण पैरों में ब्लड सर्कुलेशन ठीक से नहीं हो पाता है। गर्म पानी पीने से ब्लड सर्कुलेशन में सुधार हो सकता है और मासंपेशियों को आराम मिल सकता है। 
  • गर्म पानी का सेवन आपके कॉन्स्टिपेशन यानी कब्ज की समस्या को कम कर सकता है। 
  • शरीर में मौजूद टॉक्सिक पदार्थों को भी गर्म पानी शरीर से बाहर निकालने में मदद कर सकता है। 
  • डायबिटीज में इम्यून पावर कम हो सकता है। इस कारण मौसम में थोड़ा सा बदलाव भी आपको बीमार कर सकता है। इससे आपको सर्दी-जुकाम भी हो सकता है। ऐसे में आप गर्म पानी के सेवन से अपने आपको ठंड से बचा सकते हैं। 
  • गर्म पानी पीने से तनाव की समस्या से भी राहत मिल सकती है। बता दें डायबेटिक्स में में तनाव या चिंता की स्थिति बनी रही है, जो डायबिटीज की स्थिति को गंभीर कर सकती है।

मधुमेह में प्रति दिन कितना पानी पीना है?

यूरोपियन फ़ूड सेफ्टी अथॉरिटी (European Food Safety and Authority) के अनुसार महिला और पुरूषों में पानी पीने की मात्रा अलग-अलग दी गई है। हालांकि, ये मात्रा स्वस्थ व्यक्ति के लिए है, लेकिन डायबेटिक्स भी इसी मात्रा को फॉलो कर सकते हैं। 

  • महिलाएं: 1.6 लीटर - प्रति दिन लगभग आठ गिलास (200 ml प्रति गिलास)
  • पुरुष: 2 लीटर - प्रति दिन लगभग दस गिलास (200 ml प्रति गिलास)

क्या डायबिटिक के लिए पानी के अन्य विकल्प हो सकते हैं?

बता दें कि पानी का कोई विकल्प नहीं होता है। हां, यदि आप नॉर्मल वॉटर पर्याप्त मात्रा में नहीं पी पा रहे हैं, तो आप पानी की पूर्ति के लिए अन्य हेल्दी विकल्प चुन सकते हैं। 

लाइम वॉटर 

डायबिटीज में आप गर्म या ठंडा नींबू पानी पी सकते हैं, यह अच्छा पेय है, जो आपको हाइड्रेटेड रखेगा। साथ ही, इसके कुछ अतिरिक्त स्वास्थ्य लाभ हैं, जैसे - नींबू में विटामिन C भरपूर मात्रा में होता है, जो आपकी इम्युनिटी को बढ़ाने और इंफ्लामेशन को कम करने में मदद कर सकता है।

छाछ या बटर मिल्क 

बटर मिल्क का जीआई (GI) यानी ग्लिसेमिक इंडेक्स (glycemic index) कम होता है। ग्लाइसेमिक इन्डेक्स खाने में कार्बोहाइड्रेट की एक रैंकिंग है, जिससे यह पता लगा सकते हैं कि रक्त में ग्लूकोज कितनी तेजी से बढ़ता है।  लो जीआई फूड होने का मतलब है कि उससे शुगर लेवल तेजी से नहीं बढ़ता है। ऐसे में छाछ आपके डाइजेशन में सुधार करने के साथ आपको हाइड्रेटेड भी रख सकता है। 

बिना शुगर की चाय या कॉफ़ी 

टाइप 2 डायबिटीज में आप बिना शुगर ब्लैक टी, ग्रीन टी, लेमन टी या कॉफी पी सकते हैं। चाय या कॉफ़ी में ऐसे तत्व होते हैं, जो डायबिटीज में चिंता या तनाव की स्थिति से बचाव कर सकते हैं। हालांकि, ध्यान रहे डायबिटीज में अधिक चाय या कॉफी न पीएं, क्योंकि इससे अनिद्रा की स्थिति पैदा हो सकती है। 

डायबिटिक शेक 

यदि आप पानी का विकल्प खोज रहे हैं, तो लो जीआई, हेल्दी इंग्रीडिएंट्स वाली स्मूदी या शेक को लेने का प्रयास कर सकते हैं। इसमें बेरीज स्मूदी, पीच स्मूदी, वेजिटेबल स्मूदी आदि शामिल कर सकते हैं। ध्यान रहे, कि आप घर में बनी ही स्मूदी का सेवन करें और स्मूदी में चीनी का उपयोग करने से बचें। मिठास के लिए आप शुगर फ्री या गुड़ का विकल्प चुन सकते हैं। 

फल और सब्जियों का फ्लेवर वॉटर 

खीरा, सिलेरी, मौसमी, आदि को पानी में मिलाकर पानी को पी सकते हैं। इनमें शुगर की मात्रा कम होती है और ये आपके पानी को टेस्टी बना सकते हैं। इसके अलावा, आप अधिक पानी वाले फलसब्जियां जैसे - टमाटर, स्ट्रॉबेरी, पत्तागोभी, तरबूज, ककड़ी का सेवन कर सकते हैं। 

नारियल पानी 

नारियल पानी में भरपूर मात्रा में पोषक तत्व पाए जाते हैं। यह शरीर में पानी की कमी को पूरा करता है। एक गिलास नारियल पानी शरीर को इलेक्ट्रोलाइट, विटामिन, पोटैशियम, सोडियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फ़ॉस्फ़ोरस, जैसे मिनरल्स प्रदान करते हैं। इसका ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम होता है, जो आपके ब्लड शुगर लेवल को भी नियंत्रित रख सकता है। 

 

इस आर्टिकल के माध्यम से आप ये जान सके हैं कि मधुमेह रोगियों के लिए पानी कितना जरूरी है। ध्यान रहे पानी से शुगर का इलाज नहीं किया जा सकता है, लेकिन ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल करने के साथ-साथ अन्य स्वास्थ्य समस्याओं के जोखिम को भी कम जरूर किया जा सकता है। 

 

आप Phable के जरिए एक्सपर्ट द्वारा अपने स्वास्थ्य समस्याओं से जुड़े सुझाव और सवालों के जवाब प्राप्त कर सकते हैं। 

सारांश पढ़ें

  • जब आप कम पानी पीते हैं, तो आपके ब्लड स्ट्रीम में ग्लूकोज जमा होने लगता है। इसके कारण आपका ब्लड शुगर लेवल हाई हो सकता है। 
  • डायबिटीज के पेशेंट को स्वस्थ व्यक्ति की तुलना में अधिक पानी पीने की आवश्यकता हो सकती है। 
  • दरअसल, डायबिटीज में आपके शरीर में इकट्ठा ग्लूकोज़ को पानी के जरिए शरीर से बाहर निकालने मदद मिल सकती है। 
  • यदि आप डायबिटिक हैं तो आपको पॉलीडिपसिया (ज्यादा प्यास लगना), पॉल्यूरिया (बार-बार पेशाब आना) और अधिक पसीना आने, जैसे लक्षणों का सामना करना पड़ सकता है। 
  • इन सभी परिस्थितियों में आपको डिहाइड्रेशन की समस्या हो सकती है। अतः पर्याप्त मात्रा में पानी पीने से आप डिहाइड्रेशन से बच सकते हैं।
  • डाइबिटीज में आपको अधिक पानी पीने से कई फायदे हो सकते हैं, जैसे कि- यह आपके ब्लड शुगर लेवल को कण्ट्रोल कर सकता है, डाइजेशन में सुधार कर सकता है। 
  • यूरोपियन फ़ूड सेफ्टी अथॉरिटी के सलाह अनुसार, महिलाएं प्रतिदिन 1.6 लीटर या लगभग आठ गिलास (200 ml प्रति गिलास) और पुरुष प्रतिदिन 2 लीटर या लगभग दस गिलास (200 ml प्रति गिलास) पानी पी सकते हैं। 
  • आप पानी के साथ-साथ अन्य विकल्पों को भी चुन सकते हैं जैसे कि- लाइम वॉटर, बटर मिल्क, आदि। 

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

संबंधित ब्लॉग्स

शुगर में मेथी के फायदे: डायबिटीज में करेगी ये 5 समस्याएं दूर

शुगर में मेथी के फायदे: डायबिटीज में करेगी ये 5 समस्याएं दूर

क्या आप नैचुरल तरीके से शुगर कण्ट्रोल करना चाहते हैं, तो आजमाइए मेथी का घरेलू नुस्खा। जानिए शुगर में मेथी के फायदे और कैसे करें इसका सेवन।

और पढ़ें  Read more
छोटी सी कलौंजी हो सकती है बड़ी गुणकारी: जानिए शुगर में कलौंजी के फायदे

छोटी सी कलौंजी हो सकती है बड़ी गुणकारी: जानिए शुगर में कलौंजी के फायदे

यहां है शुगर में कलौंजी के फायदे से जुड़े कई सवालों के जवाब। तो इन्हें जानने के बाद आप कलौंजी को अपने आहार में शामिल करने से खुद को रोक नहीं पाएंगे।

और पढ़ें  Read more
क्या शुगर में चिरायता के फायदे होते हैं? जाने रिसर्च क्या कहता है

क्या शुगर में चिरायता के फायदे होते हैं? जाने रिसर्च क्या कहता है

शुगर में चिरायता के फायदे तभी होते हैं, जब इसे सावधानी के साथ लिया जाए। यहां से मधुमेह में चिरायता लेने से जुड़ी पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

और पढ़ें  Read more